योग हमारी प्राचीन परम्परा का अमूल्य उपहार, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व स्वामी रामदेव योग के क्षेत्र में पूरी दुनिया में लेकर आए क्रांति : चेयरपर्सन रेणु भाटिया

0
14

योग को पहली से 10वीं कक्षा के पाठ्यक्रमों में शामिल करने वाला हरियाणा देश का पहला राज्य, ओलम्पिक खेलों में मलखम्ब व योगासन को शामिल करवाने के लिए भारत सरकार प्रयासरत : चेयरमैन डा. जयदीप आर्य।
आजादी के अमृत महोत्सव के तहत खेलो इंडिया 10 कदम ‘वुमेन लीग योगासन का डीएवी बीएड कॉलेज ऑफ वुमेन करनाल में हुआ आयोजन।
करनाल(विजय काम्बोज )
 हरियाणा महिला आयोग की चेयरपर्सन रेणु भाटिया ने कहा कि योग हमारी प्राचीन परम्परा का अमूल्य उपहार है। योग मन और शरीर, विचार और कार्य, अवरोध और सिद्धि को साकार रूप प्रदान करता है, व्यक्ति और प्रकृति के बीच सामंजस्य बनाता है, इसमें केवल व्यायाम नहीं बल्कि प्रकृति और मनुष्य के बीच की कड़ी है।
चेयरपर्सन रेणु भाटिया शनिवार को डॉ. गणेश दास डीएवी बीएड कॉलेज ऑफ वुमेन करनाल के सभागार में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में खेलो इंडिया 10 कदम ‘वुमेन लीग योगासनÓ कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि बोल रही थी। उन्होंने इस प्रतियोगिता की विधिवत रूप से शुरूआत करने की घोषणा की। इस अवसर पर उन्होंने आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान हरियाणा राज्य महिला आयोग की वार्षिक प्रगति रिपोर्ट पर आधारित पुस्तक का भी विमोचन किया। इस पुस्तक में महिलाओं का सामाजिक, आर्थिक उत्थान, सुरक्षा के साथ-साथ उनके स्वास्थ्य और शैक्षणि स्तर का सुधार करने के लिए चलाई गई योजनाओं की विस्तृत रिपोर्ट है।
चेयरपर्सन ने कहा कि योग गुरू स्वामी रामदेव ने योग के क्षेत्र में पूरी दुनिया में क्रांति लाई है और यह क्रांति आधुनिक युग में जरूरी भी है क्योंकि योग से ही व्यक्ति स्वास्थ्य रहते है। उन्होंने कहा कि अस्वस्थ के कारण करोड़ों रुपये का बजट लोगों का बीमारियों पर खर्च हो रहा है, इससे बचने के लिए योग को अपनाएं। उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने योग के प्रति पूरी दुनिया में एक जागृति लाने का कार्य किया है। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में खेलो इंडिया 10 कदम ‘वुमेन लीग योगासनÓ कार्यक्रम की सराहना की और कहा कि योग से अधिक संख्या में महिलाओं को जुडऩे का मौका मिलेगा। उन्होंने पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व. सुषमा स्वराज को याद करते हुए कहा कि विश्व के अंदर विभिन्न देशों को जोडऩे में अहम भूमिका निभाई थी। उन्होंने आह्वान किया कि एक महिला कम से कम दो महिलाओं को योग से जोड़ें।


इस अवसर पर नेशनल योगासन स्पोर्टस फेडरेशन के महासिचव एवं हरियाणा योग आयोग के चेयरमैन डॉ. जयदीप आर्य ने कहा कि केन्द्रीय खेल मंत्रालय द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उपलक्ष्य में पूरे देशभर के 100 शहरों में 10 खेलों को प्रोत्साहन देने के लिए और महिलाओं की इन खेलों में भागीदारी बढ़ाने के लिए खेलो इंडिया 10 कदम ‘वुमेन लीग योगासनÓ का आयोजन किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के तहत योगासन की उत्तर भारत की प्रतियोगिताएं करनाल व चंडीगढ़ में आयोजित करवाई जा रही हैं। करनाल जिला के तहत हरियाणा, पंजाब व जम्मू कश्मीर की महिला खिलाडिय़ों को शामिल किया जा रहा है। इसी प्रकार चंडीगढ़ में हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड व चंडीगढ़ के खिलाड़ी शामिल हैं। इस खेल में पहली बार 30 हजार से अधिक खिलाडिय़ों की भागीदारी रहेगी। इसमें स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटी स्तर के खिलाड़ी राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर भाग लेकर पदक हासिल कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि ओलम्पिक खेलों को भारत में करवाने को लेकर भारत सरकार द्वारा प्रस्ताव दिया गया है कि वह वर्ष 2032 में ओलम्पिक खेलों की मेजबानी करने के लिए तैयार है। उन्होंने बताया कि लगभग 125 वर्षों के बाद भारत में ओलम्पिक खेलों के आयोजन होने की संभावना बन रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा मलखम्ब व योगासन को ओलम्कि खेल में शामिल करवाने की प्राथमिक सूची में रखा गया है। उन्होंने कहा कि हरियाणा मात्र ऐसा प्रदेश है जहां योग को पहली से 10वीं कक्षा तक के पाठ्यक्रम में शामिल किया गया है। इसका श्रेय हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल को जाता है। हरियाणा खेलों की भूमि रहा है, इसलिए 100 शहरों में करनाल को चुना गया है।


 योग से स्वस्थ शरीर और आत्मबल को मिलता है बढ़ावा – मेयर रेनू बाला गुप्ता।
कार्यक्रम में मेयर रेनू बाला गुप्ता ने कहा कि आज पूरा विश्व योग के माध्यम से भारत से जुड़ रहा है और योग शब्द का अर्थ भी जोडऩा ही है। उन्होंने कहा कि भौतिक युग की भाग दौड़ भरी जिंदगी में शरीर को स्वस्थ और मन को स्थिर रखना मनुष्य के लिए एक बड़ी चुनौती है। योग से जुड़कर ही हम इस चुनौती से पार पा सकते हंै। योग न केवल हम स्वस्थ रहते हैं बल्कि हमारे आत्मविश्वास को भी बल प्रदान करता है।
 योग ने भारत को विश्व में नई पहचान दिलाई – संजय बठला।
कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि संजय बठला ने कहा कि योग ने भारत को विश्व में नई पहचान दिलाई है। योग हमें बीमारियों से दूर रखता है बल्कि लम्बे समय तक हमें कार्य करने के लिए उर्जा भी प्रदान करता है। यही कारण है कि हमारी सरकार योग शिक्षा को बढ़ावा दे रही है, ताकि भावी पीढ़ी योग से जुड़कर न केवल अपने-आप को स्वस्थ रख सके, बल्कि नए भारत के निर्माण में सहायक भी सिद्घ हो।
 योग सिर्फ स्वास्थ्य का साधन नहीं है, ये हमारी मानसिक ऊर्जा के उत्कर्ष और आध्यात्मिक चेतना का आधार – जगमोहन आनंद

मुख्यमंत्री के मीडिया कोर्डिनेटर जगमोहन आनंद ने का कि योग सिर्फ स्वास्थ्य का साधन नहीं है, ये हमारी मानसिक ऊर्जा के उत्कर्ष और आध्यात्मिक चेतना का आधार भी है। योग शरीर के साथ मन और आत्मा के जुड़ाव और संतुलन का नाम है। आज के युवाओं को योग से जुडऩे की जरूरत है। योगिक-जॉगिंग एक ऐसा तरीका है जो युवाओं को ऊर्जावान रखता है और शरीर को रोगों से लडऩे की ताकत देता है। उन्होंने योग को विकसित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, मुख्यमंत्री मनोहर लाल तथा विश्व योग गुरू रामदेव का धन्यवाद किया और कहा कि योग से सद्भावना को बढ़ावा मिलता है।
 भारत योग से पुन: विश्व गुरू बना – स. गुरविन्द्र सिंह
इस मौके पर पंजाबी अकादमी हरियाणा के उपाध्यक्ष स. गुरविन्द्र सिंह ने कहा कि योग करने वाला व्यक्ति दिनभर ताजगी और स्फूर्ति से भरा रहता है तथा मन की स्थिरता के कारण अपनी दिनचर्या के सभी व सही निर्णय लेने में सक्षम होता है। उन्होंने बताया कि आज पूरे विश्व ने योग के महत्व को जानकर इसे अपनाया है और भारत योग से पुन: विश्व गुरू बन गया है। योग के अत्याधिक महत्व के कारण ही अब यह विश्व स्तर पर मनाया जाता है।
बॉक्स:  तन-मन और सोच की एकाग्रता के लिए योग को अपनाना जरूरी – प्रो. वीरेन्द्र चौहान
हरियाणा ग्रंथ अकादमी के उपाध्यक्ष प्रो. वीरेन्द्र चौहान ने कहा कि योग न केवल शारीरिक, मानसिक और श्वासों का व्यायाम है बल्कि तन-मन और सोच की एकाग्रता के लिए भी जीवन में योग को अपनाना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि योग को अपनाकर मनुष्य के शरीर में आने वाली अधिकतर बीमारियों से सुरक्षित रहा जा सकता है व मानसिक तनाव से मुक्त व्यक्ति अपने कार्य को सामान्य व्यक्ति की तुलना में बेहतर ढंग से सम्पन्न कर सकता है। उन्होंने कहा कि योग को केवल एक दिवस अथवा सप्ताह तक सीमित न करें बल्कि सभी जिलावासी इसे अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं।
 प्रदेश  स्तरीय महर्षि कश्यप जंयती समारोह इन्द्री में आयोजित किया जाएगा-विधायक  रामकुमार कश्यप

योग से आत्मविश्वास तथा बल में होती है वृद्धि – राजेश अग्गी।
सीनियर डिप्टी मेयर राजेश अग्गी ने कहा कि योग अपनाने वाले व्यक्तियों को गम्भीर बिमारी नहीं होती और उनमें आत्मविश्वास तथा बल की वृद्धि बनी रहती है। योग करने वाला व्यक्ति दिनभर ताजगी और स्फूर्ति से भरा रहता है तथा मन की स्थिरता के कारण अपनी दिनचर्या के सभी व सही निर्णय लेने में सक्षम होता है। कॉलेज की प्रिंसिपल राकेश संधु ने आए हुए अतिथियों का स्वागत किया और योग के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि योग को अपने जीवन का हिस्सा बनाएं। शास्त्रों में लिखा है कि पहला सुख निरोगी काया, इसके लिए योग जरूरी है।
इस अवसर पर करनाल की तहसीलदार ललिता, पूर्व उद्योग मंत्री शशिपाल मेहता, समाजसेवी रजनीश चोपड़ा, योग गुरू स्वामी राजनाथ, कोमल कौशिक, कोमल वर्मा, नीरज सोंधी, सुनील शर्मा, उमेश नारंग, योग शिक्षक अश्विनी मिश्रा, दिनेश शर्मा सहित काफी संख्या में योग प्रेमी मौजूद रहे।

गुरुग्राम – बिना अनुमति शराब का सेवन करवाने वाले लोगों पर रेड। 4 लोगों को किया गिरफ्तार